सत संगर एक अध्ययन

DSpace/Manakin Repository

सत संगर एक अध्ययन

Show full item record

Title: सत संगर एक अध्ययन
Author: Pandit, Ashok Kumar(Scholar); Kaul, Saum Nath(Guide)
Abstract: सत संगर और सोंज़ल जैसे दो कहानी संग्रह अखतर ने लिखकर अपने परवर्ति कहानीकारों के लिए एक नई एवं बहुमुखी दिशा प्रदान की । उन्होंने कश्मीरी कहानी की काल्पनिक उड़ान रोक कर उसको यथार्थ की भूमि पर खड़ा किया । सत संगर अखतर का पहला कहानी संग्रह हैं जिस को पुरस्कृत भी किया गया हैं । सत संगर की कहानियाँ शिल्प एवं विषय दोनों दृष्टियों से परम्परा से अलग हैं । सत संगर की कहानियाँ हमारे प्रमाणिक अनुभवों को अभिव्यक्ति हैं । ये सदैव हमें युग- बोध कराती हैं । परिवेश की प्रमाणिकता का इन कहानियों में विशेष ख्यल रखा गया हैं । सत संगर जैसा कहानी संग्रह लिख कर अखतर ने कश्मीरी कहानीकारों में सर्व श्रेष्ट स्थान प्राप्त किया हैं । सत संगर के पात्रो में किसी भी प्रकार का बनावटीपन नहीं हैं । व्यतीत कहानीकारों की तरह ये पात्र असाधारण और अस्वाभाविक काम कराते नहीं दिखाये गये हैं । इन पात्रों में अच्छाइयाँ और बुराइयाँ दोनों प्रकार की विशेषताएँ पाई जाती हैं । इनके पात्रों ने वैज्ञानिक दृष्टिकोण को अपनाया हैं । परिवेश की प्रमाणिकता एवं वैज्ञानिकता का भी विशेष ख्याल रखा गया हैं । कहानियों का भाषा एकदम स्वभाविक हैं । इस प्रकार सत संगर को कश्मीरी कहानी-साहित्य में अपना एक अलग माहत्व हैं । इस कहानी-संग्रह को राष्टिय खयाती प्राप्त हैं तथा इसकी कहानियाँ कुछ अन्तरराष्टिय भाषाओं में भी अनदित हुई हैं ।
URI: http://dspaces.uok.edu.in/handle/1/237
Date: 1980


Files in this item

Files Size Format View
वर्ष33.doc 23Kb Microsoft Word View/Open

This item appears in the following Collection(s)

Show full item record

Search DSpace


Advanced Search

Browse

My Account